12 Habits Of Successful People In Hindi – सफल लोगों की अच्छी आदतें।

Habits Of Successful People In Hindi

12 Rule For Life Habits Of Successful People In Hindi Morning Habits Of Successful Person Students Success Speech In Hindi सारे Successful लोगों की 12 आदते Here, You Can Latest Collection Motivational Speech In Hindi For Students Inspirational Story And Successful Motivational Quotes And Tips

12 Habits Of Successful People In Hindi - सफल लोगों की अच्छी आदतें।

दोस्तों, आज हम लाइफ में जीने के लिए 12 रूल देखेंगे जो की Jordan Peterson ने अपनी Best Selling Books – 12 Rules For Life में बताये है। जॉर्डन एक बहुत ही फेमस पर्सनालिटी और टोरंटो विश्वविद्यालय (Toronto University) में Phycologist के प्रोफेसर है।

1. हमेशा सीधे खड़े रहो।

पहला रूल कहता है की हमेशा सीधे खड़े रहो और अपने सोल्डर पीछे रखो एक विनर की तरह। अगर हम एक डल पोस्टर के साथ खड़े होते है तो इससे हमे दुनिया वाले एक लूज़र की तरह देखते है और फिर लोगो की रिएक्शन और उनकी बातो को फीड बैक की तरह लेने लगते है।

जिससे हम खुद को एक लूज़र समझने लगते है और फिर दुबारा से उस सेल्फ इमेज के साथ कंसिस्टेंट रहने के लिए हम अपने को औरो के सामने एक लूज़र की तरह प्रेजेंट करते है और यह लूप चलता रहता है।

इसीलिए ऑथर बोलते है की अगर हम अपने बॉडी को स्ट्रैट और एक विनर की तरह लोगों को प्रेजेंट करते है तो वो हमे डिफरेंट तरह से ट्रीट करेंगे जिससे हमारी सेल्फ इमेज भी एक विनर की होगी।

2. खुद की भी केयर करो।

यह रूल कहता है की हमें खुद की भी उतनी ही केयर करनी चाहिए जितनी की हम एक बच्चे की करेंगे। अगर हमारा कोई डॉग या कोई पेट बीमार हो जाता है और उसे कोई डॉक्टर मेडिसिन रेकमेंड करता है तो हम में से Majority Of लोग बिना देरी किये उसी वक़्त वह मेडिसिन खरीदकर उस पेट को देंगे।

लेकिन रिसर्च यह प्रूफ कर चुकी है की 33 % लोगों को जब खुद कोई डॉक्टर मेडिसिन रेकमेंड करता है तो वह उसे Use नहीं करते इसका मतलब है ही हम औरो की ज्यादा परवा करते है जितनी की हम खुद की भी नहीं करते है।

3. दोस्ती अच्छे लोगो से करो।

यह रूल कहता है की उन्ही से दोस्ती करो जो लोग बुरे वक़्त में आपकी मदद करे। Companies में ज्यादा तर देखा गया है की किसी Under Archiver को एक हाई प्रोफोर्मिंग टीम में डाल दिया जाता है ये सोचते हुए की उस Under Archiver की प्रोफर्मिंग स्पीड टीम में और लोगों की तरह इम्प्रूव हो जाएगी।

मगर Studies यह बार-बार प्रूफ कर चुकी है की ज्यादा तर Casus में Under archiver की बुरी आदते टीम को डिक्लाइन करती है ना की इम्प्रूव इसलिए Author कहते है की अपने नए दोस्त बनाने के लिए हमे बहुत चूजी होना पड़ेगा इसका मतलब ये नहीं है की हम मतलबी हो गए ही क्योंकि हेल्प करना फ्रेंडशिप में दोनों तरफ से होता है।

जब हम लोग Demotivated फील कर रहे होते है तो हमारे दोस्त हमे Motivate करेंगे और जब वो लोग एनर्जी एस्टेट में है तो हमारा भी फ़र्ज़ बनता है की हम उन्हें याद दिलवाये की उनमे बहुत Capability है और वो किसी भी Difficult State को पार कर सकते है।

4. किसी से खुद को Compare ना करे।

यह रूल कहता है की हमे लाइफ में प्रोग्रेस करनी है तो अपनी आज की परफॉर्मेंस को अपनी कल के परफॉर्मेंस के साथ Compare करे ना की किसी और की परफॉरमेंस के साथ।

ऑथर बोलते है की पर धरती पर 7 बिलियन लोग है और बहुत सारे लोग आपसे आपके ही फील्ड में अच्छे होंगे और अगर हम अपने को औरो से Compare करते है तो हर वक़्त हमारे पास दुःखी होने का रीज़न होगा।

For Example अगर आप अपने को अपने दोस्तों के साथ Compare करते है और देखते है की आपके फ्रेंड्स आपसे बहुत ज्यादा Financially अच्छे है तो आप अपने को एक कम्पलीट फैलियर मान सकते हो। लेकिन अगर आप अपने को देखो की आप अपने पिछले साल के Comparatively इस साल अपने फॅमिली के लिए बहुत कुछ किया तो यही बात हमे बहुत ही Positive Energy दे सकती है।

5. बच्चो को अच्छी शिक्षा देना।

ये रूल कहता है की एक बच्चे को एक रेस्पोंसिबल सिटीजन बनाना पैरेंट्स की रेस्पोंसबिलिटी है। स्टडीस यह प्रूफ कर चुकी है की कई बच्चे बचपन से ही एग्रेसिव, गुस्से वाले होते है इसीलिए पेरेंट्स को चाहिए की ऐसे बच्चो को एक अच्छा सिटीजन बनाने के लिए खुद एफर्ट करे ना की Society पर छोड़ दे।

एफर्ट जैसे की बच्चे को क्लियर करे की गलत करने पर उसे क्या पनिसमेंट मिलेगी और पनिसमेंट क्राइम के अकॉर्डिंग होनी चाहिए। साथ में पेरेंट्स को अपने बच्चे को अपने घर के रूल्स Clearly बताने चाहिए और रूल्स की Quantity कम रखे ताकि बच्चे कंफ्यूज ना हो।

6. लोगों को Advise बंद करे।

यार कोहली ने ये शॉट ठीक से नहीं मारा, A. R. Rahman ने बीट मिस कर दी, ऐसे बहुत से लोग है जो लोगों को फ्री में Advise देना पसंद करते है बेसक उन्हें खुद उस फील्ड के बारे में कुछ भी ना पता हो। और जब उनसे खुद ये कोई पूछता है की आपने अपने लाइफ में क्यों कुछ नहीं Achieve किया तो उनका Answer हमेशा यही होता है।

यार दुनिया में इतनी मुस्किले है ना बस दुसरो को आसान लगती है खुद करो तो पता चलता है और Exactly ये रूल यही कहना चाहता है की हम जब तक अपनी लाइफ को आर्डर में ना ले आये तब तक औरो को फ्री में एडवाइस नहीं देनी चाहिए।

हो सकता है आपके एरिया में भूकम आया हो लेकिन आपको अगर पहले से ही पता था की इस एरिया में भूकंप आ सकता है और फिर भी अपने कुछ नहीं किया तो आप की गलती है ना की भगवान की।

7. अपने लाइफ में रूल सेट करो।

आपने ये बन्दर की कहानी जरूर सुनी होगी एक बार बन्दर को पकड़ने के लिए एक डब्बे में एक बिस्किट रखा गया इस डब्बे में होल था जिससे बन्दर अंदर खाली हाथ तो डाल सकता था लेकिन बिस्किट को पकड़कर बंद मुट्ठी बहार नहीं निकाल सकता था और ऐसा ही हुआ जब बन्दर ने वो बिस्किट पकड़ा तो बंद मुट्ठी के कारण उसका हाथ बहार नहीं निकाल रहा था लेकिन उसने अपनी लालच के वजह से उस बिस्किट को नहीं छोड़ा और Finally शिकारी के जाल में पकड़ा गया।

स्टोरी का मोरल ये है की हमे भी अपने लाइफ में रूल सेट करने है एक डिग्निटी वाली लाइफ जीने के लिए उन रूल्स को किसी इम्मीडिएट ख़ुशी के लिए कुर्बान नहीं करने है।

8. खुद से झूठ मत बोलो।

ये रूल कहता है की झूठ मत बोलो खाश कर के खुद से For Example अगर आपने सोचा हुआ है की आप फॉरन में मैरेज करेंगे आप बहुत ही शानदार पार्टी देंगे सारे फ्रेंड्स को बुलाएँगे ये एक अच्छा गोल है लेकिन हो सकता है की हम खुद को ही बेवकूफ बना रहे है क्योंकि हो सकता है की Financially अभी तक हमने इतना ग्रो नहीं किया है की हम ये सब अफोर्ट कर सके।

ऐसी कई चीज़े है जहां पर हम रियलिटी जाने के बावजूद खुद को बेवकूफ बना रहे होते है। इसका मतलब ये नहीं है की हम में बड़े गोल्स नहीं रखने है बल्कि इसका मतलब ये है की हमे रीयलिस्टिक और फ्लेक्सिबल गोल्स रखने है।

जैसे-जैसे हम लाइफ में ग्रो करेंगे हमारा दुनिया को देखने का नज़रिया बदलेगा और हो सकता है हमारे गोल्स भी बदल जाये इसलिए हमे At List खुद से झूठ नहीं बोलना है।

9. दुसरो की बातो को सुनो और सीखो।

ये रूल कहता है की जब बी हम किसी से बात करते है तो हमारा Main Motive होना चाहिए की हम उनसे कुछ ऐसा सीखे जो हमे पहले मालूम नहीं था।

किसी भी Conversation का Main गोल ये होता है की दो लोग अपने Individual Ideas से ऐसा एक आईडिया बनाये जो उन दोनों आईडिया से बेटर हो लेकीन आज कल के Time में लोग अपनी बातो को और अपने दुःख को दुसरो को बताना ज्यादा प्रेफर करते है As Compare To दुसरो के बातें सुनने से कई बार हमे दुसरो के Ideas सुनने में दुःख हो सकता है क्योंकि हमारे आइडियाज जिन पर हम बचपन से यकींन कर रहे थे हो सकता है वो गलत निकले लेकिन ये एक प्राइस है जो की हमे पे करना ही पड़ेगा अगर हमे इम्प्रूव और ग्रो करना है।

10. अपने जरुरत से ज्यादा सीखे। 

लाइफ बहुत काम्प्लेक्स है और इसे समझने के लिए Majority Of Humans सिर्फ उतने पार्ट को सीखते है जो उनके लाइफ के लिए इम्पोर्टेन्ट है। अब Obesely हम दुनिया के सारे Concept को तो नहीं सिख सकते लेकिन Author बोलते है की हमे चीज़ो के अपने जरुरत से ज्यादा सीखना चाहिए और उसके लिए क्लियर लैंग्वेज Use करना चाहिए।

For Example अगर हम बीमार है तो हमे डॉक्टर को बहुत क्लियर डाटा देना पड़ेगा की हमारे साथ क्या हुआ है की क्या हमारा पहले पेट दर्द कर रहा था या फिर हमे फीवर था या पेट दर्द हमारे कुछ खाने के बाद हुआ और वो क्या चीज़ थी जो हमने खायी और पेट दर्द स्टार्ट हो गया। ज्यादा तर बीमारियों को Doctors इसीलिए नहीं समझ पाते क्योंकि Patient उन्हें क्लियर Data ही प्रोवाइड नहीं करते। इसलिए Author बोलते है की इन इम्पोर्टेन्ट Causes में हमे एकदम Precise Language का इस्तेमाल करना चाहिए।

11. रिस्क के लिए Prepare करे।

इस रूल में Basically Author कहना चाहते है की अपने Loved वंस को रिस्क के लिए Prepare करना एक ज्यादा Better Option है As Compare To उन्हें वो रिस्की काम ही ना करने देने से क्योंकि लाइफ में बहुत सारी चीज़े है जो रिस्की है इसलिए हम अपने लाइफ का एक पर्सनल Example देना चाहता हु।

अगर आपको याद होगा 2014 में हिमांचल प्रदेश, मंडी, डिस्टिक में 24 इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स की पानी में दुब कर डेथ हो गयी थी क्योंकि वह Hydro Plant का टेरिस्ट गेट खोल दिया गया था और ये बात स्टूडेंट्स को पता नहीं थी अब इस इंसिडेंट के बाद Maximum Parents ने अपन बच्चो को बताया की उन्हें पानी के पास कभी नहीं जाना है और Even उनसे प्रॉमिसेस लिए गए की वो ऐसा कभी नहीं करेंगे।

लेकिन एक व्यक्ति ने जो की पहले इंडियन नेवी में थे उन्होंने अपने लड़के को पहले सुम्मिंग सिखाई और एक दिन River के पास ले जाकर धक्का दे दिया सिर्फ ये देखने के लिए की वो इस Situation में कैसे रियेक्ट करता है और As Accepted वो आराम से तैर कर किनारे पर आ गया।

ये एक बहुत ही कैलकुलेटिव रिस्क था जो की वह व्यक्ति अपने लड़के के साथ थे और अगर वो पैनिक करता तो उसे बचा लेते। अब पॉइंट ये है की हर पेरेंट्स अपने बच्चे को प्यार करते है लेकिन बेटर ऑप्शन क्या है अपने Loved वंस को रिस्क से एकदम दूर रखना जब की कभी ना कभी उनके लाइफ में रिस्क आएंगे ही आएंगे या फिर उन्हें रिस्क के लिए Prepare करना।

12. हर छोटी खुशियों को सेलिब्रेट करे।

Author बोलते है की लाइफ हार्ड है और हम लाइफ में ना चाहते हुए भी दुःख मिल सकते है इसलिए यह बहुत इम्पोर्टेन्ट है की हम लाइफ में हर छोटी सी छोटी खुशियों को भी दिल खोल कर सेलिब्रेट करे।

Author की एक बेटी है जिन्हें 6 साल की उम्र में ही Arthritis था उन्हें बहुत बार Pain होती थी जिसके लिए उन्हें इंजेक्शन दिए जाते और Even बहुत बार उनकी Surgeries भी हुयी अगर हम में से किसी की ऐसी बेटी होती तो हमे लगता हमारी लाइफ कितनी बुरी है।

लेकिन Author अपने Daughter के साथ हर छोटी सी छोटी ख़ुशी भी सेलिब्रेट करते थे। और उन्हें कुछ सालो के बाद कुछ ऐसा Physicochemist मिला जिसे ऑथर की बेटी का पाने बहुत कम हो गयी और ऑथर ने इसे भी और खुशियों की तरह सेलिब्रेट किया अब लाइफ में प्रोब्लेम्स तो आनी ही है बस लाइफ को एक Adventure की तरह ले और रस्ते की हर छोटी ख़ुशी को सेलिब्रेट करते रहे।

तो दोस्तों इस हम 12 रूल देखें जिसमे सबसे पहला रूल कहता है।

1. अपने Body Posture को स्ट्रैट रखें ताकि इससे हमारा कॉन्फिडेंस बड़े।
2. हमे औरो के केयर के साथ-साथ खुद की भी केयर रखनी चाहिए।
3. ये रूल कहता है की फ्रेंड्स उन्ही को बनाये जो बुरे वक़्त में आपका साथ दे और आप भी अपने फ्रेंड्स के मुश्किल टाइम में उनकी हेल्प करे।
4. खुद की परपॉर्मेन्स को हमेशा पिछले दिन की परफॉर्मेंस से Compare करे क्योंकि यही गोल्डन रूल है प्रॉपर रिस्क का और ग्रोथ का।
5. अपने बच्चो या Loved वंस को इम्प्रूव करने की जिम्मेदारी आपकी है ना की किसी और की।
6. पहले खुद को इम्प्रूव करे दुनिया को बाद में इम्प्रूव करे।
7. अपने डिग्निटी को Maintain रखने के लिए एक मीनिंगफूल लाइफ जिओ ना की सिर्फ अपने ख़ुशी के लिए हर एक्शन लो।
8. कोशिश करे की किसी से झूठ ना बोले खाश कर के खुद से।
9. जब दुसरो की बात सुनो तो यह सोचो उसे कुछ ऐसा पता है जो हमे नहीं पता ताकि हम ग्रो और इम्प्रूव करते रहे।
10. हमे अपने फील्ड के अलावा और फील्ड के बारे में भी थोड़ी नॉलेज रखना चाहिए और हमे खुद की एक्सप्रेस करने के लिए Precise Word Use करने चाहिए।
11. रूल कहता ही की हमे अपने Loved वंस को रिस्क के लिए Prepare करो ना की उन्हें रिस्क से दूर ले जाओ क्योंकि रिस्क तो उनकी लाइफ में आने ही आने है।
12. इस रूल में हमने देखा था की हम छोटी-छोटी खुशियों को भी सेलिब्रेट करे।

दोस्तों इस बुक में और भी काफी इंटरस्टिंग टिप्स दिए गए है अगर आप भी ये पूरी बुक पढ़ना चाहते है तो यहाँ क्लिक करके आप ये बुक खरीद सकते है।


Read Also :-

Share With Your Friends