7 Bad Habits Of Unsuccessful People In Hindi – ये आदते हमें बर्बाद कर रही है।

Bad Habits Of Unsuccessful People In Hindi

7 Bad Habits Of Unsuccessful People In Hindi Students Good Habits And Bad Habits Of Successful Person Kids Girl In Hindi ये 7 आदते हमें बर्बाद कर रही है। Here, You Can Read Latest Collection Short Motivational Speech In Hindi For Students Life Lessons Motivational Quotes Success Story And Tips

7 Bad Habits Of Unsuccessful People In Hindi - ये आदते हमें बर्बाद कर रही है।

1. चलता है Attitude

नैपोलियन में बहुत सी Quality थी जिसकी वजह से उन्हें हिस्ट्री का ग्रेटेस्ट जनरल माना जाता है लेकिन उनकी जो सबसे बड़ी Quality थी वो थी उनकी Boundless Energy. Campaigns के टाइम में वो हर रोज़ 18 से 20 घंटे तक काम करते थे और अगर जरुरत पड़ती तो वो कई राते सोते भी नहीं।

उन्हें वॉर के बारे में हर Details पता रहता था कई बार तो वो मीलो तक घोड़ो की सवारी करते और Travel कर के वापस आकर फिर से काम करने लगते। Biographers मानते है की वो कभी भी संतुष्ट नहीं होते थे।

1796 में उन्होंने फ्रांस को इटली से जिताया जैसे ही ये वॉर ख़त्म हुयी वो अपनी फ्रांस आर्मी को Egypt को वॉर के लिए ले गए। जब उन्हें लगा की Egypt के साथ वॉर ठीक नहीं चल रही है और उन्हें उनके तरीके से काम नहीं करने दिया जा रहा है तो वो फटाफट फ्रांस पहुंचे और Conspiracy करके वहाँ के First कॉउंसल बन गए जैसे ही ये काम ख़त्म हुआ वैसे ही वह इटली के साथ एक और वॉर पर चले गए और ऐसे ही एक के बाद एक अगले Campaign में जाते और वो भी बिना रुके एक Limitless Energy के साथ।

होता ये है की जब भी हम चलता है Attitude रखते है तो हम बोर हो जाते है। नैपोलियन कहते है की “हम में एनर्जी की कमी तभी होती है जब हम खुद की Capability से हलके चैलेंजेज खुद को दे देते है।”

अगर हम रिस्क लेते है तो हमारी माइंड और बॉडी में इतनी एनर्जी आ जाएगी की हम वो Archive कर लेंगे की वो जो हमने कभी सोचा भी नहीं था इसीलिए “Never settle down and make risk a constant practice.”

2. करना नहीं सिर्फ सोचना।

Del बताते है की 1943 में एक बार वो पूल में कूदने की कोशिश कर रहे थे लेकिन जिस लकड़ी पर वो खड़े थे वो टूट गयी और और फ्लोर पे वो आकर जोर से गिरे उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया और डॉक्टर ने उन्हें बताया की उनके रिब्स टूट गए है और एक रिब ने उनकी राइट लंग्स को पंक्चर कर दिया है।

वो तीन महीने तक हॉस्पिटल में रहे लेकिन उसके बाद डॉक्टर ने कहा की अभी तक कुछ भी इम्प्रोवेमेन्ट्स नहीं है। Del को बहुत शॉक लगा की तीन महीने हो गए लेकिन मुझमें कोई इम्प्रूवमेंट नहीं है। उन्होंने इस पर काफी देर तक सोचा की ऐसा इसीलिए है क्योंकि वो पुरे दिन बस लेटे रहते है और अपने बीमारी के बारे में सोचते रहते है और इसीलिए सायद उनकी बॉडी रिकवर नहीं कर रही है।

Del ने फिर डॉक्टर को बोला की आप मुझे साथ वाले वार्ड में शिफ्ट कर दे जिसका नाम था कंट्री क्लब जहां पर पेशेंट अपने मर्ज़ी का कोई भी काम कर सकते है। Del को वह शिफ्ट कर दिया गया।

उसके बाद Del ने वहाँ आयल पैन्टिन्ग सीखी Psychology के ऊपर बहुत सारी बुक्स पढ़ी, Contract Bridge Game खेली वो इन एक्टिविटी में इतना ज्यादा बिजी हो गए थे की उन्हें अपने बीमारी का कुछ याद ही नहीं रहा। Del खुश तब हुए अगले तीन महीने गुजरने के बाद पूरा मेडिकल स्टाफ उन्हें Congrats करने आया की उन्होंने अमेजिंग रिकवरी की है और वो घर जा सकते है।

तो पॉइंट ये है की जब हम बैठ कर अपने लाइफ के बारे में चिंता करते रहते है तो कोई इम्प्रूवमेंट नहीं होती ना ही Del की तरह हेल्थ की और ना लाइफ में किसी और चीज़ की लेकिन जब हम अपना माइंड टेंशन से हटा कर किसी एक्शन को एक्सक्यूटे करने के लिए लगाते है तो इम्प्रोवेमेन्ट्स होना स्टार्ट हो जाती है।

3. डर का सामना ना करना

वर्ल्ड वॉर में Georges Patton USA आर्मी के जनरल थे जिनके मैक्सिमम फॅमिली मेंबर्स भी आर्मी में जनरल और कर्नल की पोजीशन में सर्व कर के सिविल वॉर के दौरान सहीद हुए थे। वर्ल्ड वॉर 1 में 1918 के दौरान Patton पहली बार वॉर में उतरे पैटर्न ने Tank Division सम्भली हुयी थी।

पैटर्न ने किसी तरह अपनी अमेरिकन इन्फेंट्री आर्मी माउंटेन टॉप तक पंहुचा दी। लेकिन तब जर्मनस उन पर फायर करने लगी जिसकी वजह से उन्हें और उनकी आर्मी को वहाँ पर कवर लेना पड़ा जल्दी ही पैटर्न को पता चल गया था की वो लोग फंस गए है।

अगर वो पीछे की तरफ जाते है तो हिल के साइड से उन पर फायरिंग होगी और अगर वो आगे बढ़ते है तो जर्मनस मशीन गन से उन सबो उन्हें मार देंगे। पैटर्न डर गए उनकी टांगे कापने लगी लेकिन फिर उन्हें अपनी फैमिली में उन सबकी याद आयी जो आर्मी में सहीद हुए थे।

पैटर्न को ऐसा लगा की मनो वो सब पैटर्न को सहीद होने के लिए बुला रहे है। जॉर्ज पैटर्न को लगा की उन्हें मरना ही है तो मैं पीछे हटकर नहीं बल्कि आगे बढ़ कर मरूंगा। पैटर्न अपनी आर्मी को आर्डर देने के लिए जैसे ही खड़े हुए उनकी टांग में गोली लगी और वो गिर गए। पर किसी तरह वो सब वहा से निकल गए।

उसके बाद से यहाँ तक की जब वह जर्नल भी बन गए उन्होंने एक आदत बना ली थी की जब भी किसी वॉर की रिपोर्टिंग लेनी होगी तो वह Frontlines में जाकर खुद ही रिपोर्टिंग लेंगे ताकि वह बार-बार अपने डर पर काबू कर सके।

इस स्टोरी से हमें दो सिख मिलती है पहला डर से छुपने से बेहतर है की हम डर का सामना करे क्योकि डर की वजह से हम फ्रीज हो जाते है और कोई भी एक्शन नहीं ले पाते है दूसरी सिख हमें ये मिलती है की जब हम डर जाते है और अपना प्रजेंस ऑफ़ माइंड छोड़ देते है तो हम सिर्फ खुद की ही नहीं बल्कि अपनी फैमिली, अपनी ग्रुप्स, अपनी फ्रेंड्स की नज़रो में भी गिर जाते है।

अगर हम लीडर है तो हमें बहुत से लोग देख रहे है इसीलिए हमें अपना कंपोजर रखकर ही Decision लेना चाहिए।

4. बहुत ज्यादा चिंता करना।

जोयसेफ अपनी स्टोरी बताते है की जब मैं छोटा था तब से ही मैं हर चीज़ के बारे में परेशान रहता था। कई चीज़े जिनसे मैं परेशान रहता था वो रियल भी नहीं थी कई बार तो मैं इस चीज़ से परेशान हो जाता था की कही मैं कुछ ऐसी चीज़े तो नहीं मिस कर रहा जिसके लिए मुझे परेशान होना चाहिए।

काफी सालो तक ऐसा ही चलता रहा लेकिन एक बार मैं अपने दोस्तों के साथ ट्रैन स्टेशन पर था क्योंकि हमें कही जाना था हमारे ट्रैन आने में कुछ टाइम था इसीलिए मैं एक दूसरे ट्रैन के सामने खड़ा हो गया जो चलने ही वाली थी मैं उसका इंजन देखने लगा तभी उस ट्रेन में से एक आदमी उतरा और चिल्लाने लगा (सब ट्रैन में चढ़ गए है ) उसने थोड़ी देर देखा और जैसे ही ग्रीन लाइट हुयी उसके बाद ट्रेन स्टार्ट हो गयी और अपनी 2500 km की जर्नी स्टार्ट की।

जोसेफ कहते है की पता नहीं क्यों मुझसे ये लाइन कुछ कनेक्ट हो गयी मैं उस ट्रेन और उस आदमी के बारे में सोचता रहा की वह 2500 km की जर्नी तय करने वाले है और उन्हें इसकी फ़िक्र नहीं है की क्या पता रस्ते में एक्सीडेंट हो जाये, कुछ डिले हो जाये, ट्रेन में खराबी हो जाये, वो बस चल दिए और मैं लाइफ में बस ये सोच कर टेंशन लेता रहा की आगे क्या होगा। और हर वक्त ये सोचते रहता की जब लाइफ में सारी लाइट ग्रीन होंगी मैं तभी आगे बढूंगा।

लेकिन इस ट्रेन के Example अब मैंने टेंशन लेना छोड़ दिया है जब सिंगनल मिल जाये तो चल पड़ो, जब प्रॉब्लम आ जाये उसे तब ही हैंडल करो।

5. लोगो के बारे में सोचना।

यार अगर ये ड्रेस पहन ली तो लोग क्या सोचेंगे, अगर सस्ता सेल फ़ोन ले कर पार्टी में चला गया तो सब मुझ गरीब समझेंगे, अगर मैंने आंटी को बता दिया की मेरी जॉब नहीं लगी है तो वो क्या सोचेंगी। हम में से हर कोई बहुत ही Insecure होता है हमें लगता है की बस हर इंसान सारे काम छोड़ कर हमारे बारे में ही सोच रहा है जब की दूसरे इंसान को भी यही लग रहा होता है।

Jeff Bezos बोलते है की अगर तुम्हे ऐसे कभी भी फीलिंग आते है और ऐसा लगता है की सोशल प्रेशर बहुत ज्यादा हो गया है तो एक बार घर से बहार निकले और एक बहुत ही क्राउडेड जगह में जाओ और उस भीड़ को आराम से देखने लग जाओ उनमे से एक आदमी भी तुम्हारे बारे में नहीं सोच रहा होगा। किसी माँ को अपने बच्चे की चिंता होगी, किसी को अपने जॉब की, किसी को अपने स्कूल असाइनमेंट की।

इसीलिए हमें अपने काम के बारे में सोचना चाहिए ना की औरो के बारे में सोच कर अपने डिसिशन चेंज करने चाहिए।

6. अपने गोल्स और सीक्रेट्स शेयर करना

नासा के एस्ट्रोनॉट Garrett Reisman जिन्होंने Elon Musk के साथ काम किया है वो बताते है की Elon Musk हमेशा लोगो से उसी टॉपिक के बारे में बात करते है जिनके बारे में उन्हें पता होता है।

For Example Elon Musk ने Garrett से कभी भी NEURALINK कम्पनी के बारे में बात नहीं करी क्योंकि Garrett एक एस्ट्रोनॉट है ना की बायोलॉजिस्ट और ये एक मेथड है जिससे Elon काफी अच्छे तरीके से अपना टाइम मैनेज करते है।

लेकिन नार्मल इंसान अपने ड्रीम्स हर किसी से शेयर करने लगता है स्पेसली नेगेटिव लोगो से या उन लोगो से जो उसके ड्रीम्स कभी समझते ही नहीं और यही Reason है जो की हमें नेगेटिविटी वापस मिलती है जिससे खुद के गोल्स की तीव्रता कम हो जाती है।

इसीलिए चाणक्य ने भी कहा था की कभी भी अपने गोल्स और अपने सीक्रेट्स किसी के साथ शेयर मत करो।

7. गलत लोगो को चुनना।

एक स्टडी से पता चला है की मैक्सिमम लोग Young Age लोग स्मोकिंग के हैबिट्स में फंस जाते है इस Young Age में उन्हें स्मोकिंग की आदत इसीलिए नहीं पड़ती क्योंकि उन्हें धुँआ अच्छा लगता है।

बल्कि मैक्सिमम को इसकी आदत इसीलिए पड़ती है। क्योंकि वो किसी गलत इंसान को Conscious या Subconscious अपना हीरो मान लेते है, हो सकता है की वो हीरो किसी गली का गुंडा हो जिसे उस लड़के ने स्कूल समझ लिया या फिर कोई मूवी का हीरो हो।

इसीलिए बेटर यही है की उसे हम अपना हीरो माने जो हमें ठीक डायरेक्शन में लेकर जाये और इसके लिए हमें खुद को उसी कंटेंट को एक्सपोज़ करना है। जिससे हमारी ब्राइने की प्रोगरामिंग बेटर तरीके से हो जैसे की महान लोगो की बुक्स या उनकी कम्पनी। तभी हम इम्प्रूव कर सकते है।

तो दोस्तों आज हमने 7 आदते देखी जो हमारी लाइफ को बर्बाद कर सकती है।

1. चलता है Attitude

जिसमे हमने नेपोलियन की स्टोरी देखी थी की वो चलता है Attitude नहीं बल्कि खुद को हमेशा Challenge करने में Believe करते थे इसीलिए हिस्ट्री बुक्स में हमने उनका नाम पढ़ा है।

2. No Action Only Thinking

जिसमे हमने देखा था की कैसे हम सिर्फ सोचने से स्ट्रेस लेवल कितना इनक्रीस हो जाता है जिससे बॉडी भी रिकवर नहीं होती।

3. Running From Fears

इसमें हमने देखा था की जॉर्ज पैटर्न जब एक वॉर में डर गए थे तो उस डर को हटाने के लिए वो बार-बार वॉर की Frontlines में जाते और खुद रिपोर्ट लेते ताकि उनका ये डर ही ख़त्म हो जाये।

4 Worrying Too Much

जिसमे हमने Joseph की स्टोरी देखी थी की कैसे एक नार्मल ट्रेन की जर्नी से उनको लेशन मिला की किस तरीके से 2500 km के जर्नी के लिए भी उनके ऑपरेटर्स टेंशन नहीं लेते थे बस सामने जितना टारगेट है उसी के अकॉर्डिंग एक एक माइल कवर करते थे।

5. Being Insecure

जिसमे हमने देखा था की हम हमेशा ये सोचते रहते है की और लोग हमारे बारे में क्या सोचेंगे। लेकिन अगर हम एक भीड़ वाले इलाके में जाये तो हमें पता चल जायेगा की किसी को भी हमारी परवा नहीं है इसीलिए हमें खुद की समझ से एक्शन लेनी चाहिए ना की सोशल प्रेशर में आके।

6. Talking About Your Dreams With People Who Do Not Understand Them

जिसमे हमने देखा था की वैसे तो हमें अपने गोल्स किसी के साथ शेयर करने ही नहीं चाहिए लेकिन अगर करने भी है तो उसी से करो जो उसे समझ सके वर्ना हमेशा नेगेटिविटी ही मिलेगी।

7. Wrong Hero

जिसमे हमने देखा था की मैक्सिमम Young लोगो की लाइफ इसीलिए बर्बाद होती है क्योंकि वो गलत इंसान को Subconscious अपना हीरो मान लेते है इसीलिए बेटर यही है की हम उन लोगो से इम्प्रेस हो उन लोगो को अपना हीरो माने जो इंटेलेक्टुअल हो जो सोसाइटी के लिए कंट्रीब्यूट कर रहे हो।

दोस्तों, अगर अच्छी हैबिट्स खुद में लाना चाहते है तो मेरे ओपेनियन में सबसे बेस्ट हैबिट्स है बुक्स। ऐसे लोगो के द्वारा लिखी गयी बुक्स जिन्होंने एक ही स्किल्स में दस से बिस साल गुजारे हो इससे अच्छा क्या हो सकता है की ऐसे लोग हमें अपना एक्सपेरिएंस सीखा रहे है।


Read Also :-

Share With Your Friends