अरविंद अरोड़ा सफलता की कहानी – Arvind Arora Success Story

अरविंद अरोड़ा सफलता की कहानी

Arvind Arora Success Story In Hindi A2 Motivation (Vedantu) Biography Net Worth Age Wife Here, You Can Read Latest Collection Of Short Motivational Speech In Hindi For Students Life Lessons Motivational Quotes Success Story And Tips

अरविंद अरोड़ा सफलता की कहानी - Arvind Arora Success Story In Hindi

अरविन्द अरोड़ा जो की यूट्यूब पर शॉर्ट्स वीडियो के नाम से जाने जाते है ये यूट्यूब पर सभी टॉपिक से रिलेटेड वीडियो डालते है इनके वीडियो लोगो द्वारा इतने ज्यादा पसंद किये जाते है की इनके चैनल A2 Motivation पर 10M से भी ज्यादा है।

आज हम इनके बारे में कुछ ऐसी बातें जानेंगे जो की आपने पहले कभी नहीं सुनी होगी।

इनका जन्म राजस्थान के एक छोटे से कस्बा सूरत गढ़ में हुआ इनकी फॅमिली एक लोवर क्लास फॅमिली थी इनके पिता एक दुकानदार थे जो की दुकान चलाया करते थे और इनके माता जी एक हाउस वाइफ थी।

अरविन्द अरोड़ा को बचपन से ही कुछ बड़ा करने को था इनकी फॅमिली ज्यादा पढ़ी लिखी तो नहीं थी जिससे इनके फॅमिली के लोग जानते थे की ये भी अपने पिता जी की ही तरह दुकान पर बैठेंगे।

लेकिन जैसे तैसी करके इन्होने अपनी 12th की पढ़ाई कम्पलीट की इसके बाद बारी आयी आगे की पढ़ाई की तो इनके फॅमिली के लोग बोले की हम लोग कहा से इतना पैसा अफोर्ट कर पाएंगे।

लेकिन इनके अंदर एक जिद और जूनून था इनके पिता जी ने लोन पास कराया जिससे ये इंजीनियरिंग की पढ़ाई तो करने लगे लेकिन जब ये 2nd ईयर में आये तो इनका मन पढ़ाई में ना होकर कही और लगने लगा जिससे इनको पढ़ाई में भी डिस्टर्ब होने लगा।

लेकिन फिर से इनको रियलाइज हुआ की अगर मैं ऐसा करूंगा तो मैं अपना सपना कभी नहीं पूरा कर पाउँगा और मैं अपने फॅमिली को भी धोखा दे दूंगा क्योकि ये लोन के पैसो से पढ़ाई करने के लिए गए हुए थे।

इंजीनियरिंग ख़त्म होने के बाद ये राजस्थान के जयपूर में एक कोचिंग सेण्टर खोले जिसमे इन्होने एक साल तक पढ़ाया और एक साल बाद इन्होने अपने एक दोस्तों को दे दिया उसके बाद फिर से यह जयपुर से सिक्कर आ गए और अपने एक मित्र के साथ मिलकर द्रोणाचार्य नामक कोचिंग सेण्टर से फ्रेंचाई लिया और एक संस्था खोले।

जब इन्होने एक सेण्टर खोला था उस समय ये खुद अपने सेण्टर का पोस्टर चिपकाया करते थे और वो भी रात के 2-2 बजे तक क्योकि दिन में इनको बच्चो को पढ़ाना रहता था अरविन्द सर अपने ऑफिस और क्लास रूम में खुद ही झाडू लगाया करते थे।

दो साल के कड़ी मेहनत के बाद इनके सेण्टर में 350 बच्चो का एड्मिशन हो गया था जो की उस समय के लिए एक बहुत ही बड़ी बात थी और उसी समय इन्होने एक कार भी ख़रीदा था।

लेकिन फिर से ये सेण्टर भी इनको छोड़ना पड़ा क्योकि इनका दोस्त जो की इनका पार्टनर था उससे कुछ विवाद हो गया और उसी दिन वह अपना कार लिए और चल दिए गुजरात की तरफ।

इन्होने रास्ते में जाते हुए सोचा की यार मैं ये क्या कर रहा हूँ मैं वहा जा रहा हूँ जहा लोग मुझे जानते ही नहीं यही सब बातें सोच कर ये अहमदाबाद के एक होटल में ही रुक गए और रिस्तेदार के कहने पर वे सूरत आ गए।

सूरत आने के बाद इन्होने 6 महीनो का ब्रेक लिया लेकिन ये ब्रेक नहीं था यह अपने आपको मेंटली फिट कर रहे थे 6 महीने के अंदर खाना सोना और अच्छी-अच्छी बुक्स पढ़ना यही इनका काम था।

लेकिन बाद में इनको पैसो की कमी होने लगी तो इन्होने सूरत के ही एक कोचिंग सेण्टर में पढ़ाना चालू कर दिया।

एक दिन इन्होने एक बुक पढ़ा और उससे वह काफी प्रभावित हुए और सोचा की अगर इस पर वीडियो बनाया जाते तो कैसा लगेगा और फिर इन्होने वीडियो बनाना चालू कर दिया और इनके यूट्यूब करियर की शुरुआत यही से हुआ।

ये सारे कोचिंग संस्थानों को छोड़ कर अपना पूरा फोकस यूट्यूब पर देने लगे और आज इनके चैनल पर 12 Million से भी ज्यादा सब्सक्राइबर है।

अरविन्द अरोड़ा सर अब बैंगलुरु में रहते है और जल्द ही इन्होने बैंगलुरु में ही अपना खुद का घर भी लिया है और लाखो के गाड़ी में घूमते है। इनके महीने की कमाई की बात करे तो ये हर महीने 8 से 10 लाख रूपये कमा लेते है और इनकी उम्र अभी 35 साल है और ये प्रोफेशन से टीचर और यूटूबर है।

तो ये थी अरविन्द अरोड़ा सर की बायोग्राफी सक्सेस स्टोरी और लाइफस्टाइल उम्मीद करता हूँ की आपको पसंद आयी होगी।

।। धन्यवाद।।


Read Also :-

Share With Your Friends