5 Fear Motivational Speech In Hindi – ये पांच डर आपको बर्बाद कर देंगे।

ये पांच डर आपको बर्बाद कर देंगे

Fear Motivational Speech In Hindi Overcoming Fear Inspirational Story For Students Success In Life In Hindi Here, You Can Read Latest Collection Short Motivational Speech In Hindi For Students Life Lessons Motivational Quotes Success Story And Tips

5 Fear Motivational Story In Hindi - ये पांच डर आपको बर्बाद कर देंगे।

आज हम बात करने वाले है पांच ऐसे डरो के बारे में जो किसी इंसान के अंदर बिलकुल भी नहीं होनी चाहिए। और इन पांचो डरो में से कोई ना कोई दर आपके अंदर जरूर होगा। और यदि इन पांचो डरो में कोई भी डर आपके अंदर है तो आप कभी सफल नहीं हो पाएंगे इस लिए इससे बचने का सिर्फ एक ही तरीका है इन डरो को अपने अंदर पहचानिये और उन्हें अपने जीवन से ख़त्म कीजिये।

हर इंसान अपने जीवन में किसी ना किसी चीज़ से जरूर डरता है लेकिन डरने के इस चक्कर में वो भूल जाता है की उसे किस चीज़ से डरना है और किस चीज़ से नहीं डरना है जिससे डरना होता है उसे वो बेफिक्र हो कर करता है और जिससे नहीं डरना होता है उस काम से उस चीज़ से वो जीवन भर डरता रहता है।

तो ये ऐसे पांच डर है जो आपको अपने जीवन से ख़त्म करना चाहिए।

1. आलोचना का डर।

Fear of criticism. जो की दुनिया का सबसे बड़ा डर है। दुनिया की नब्बे प्रतिशत अपने पैशन को फॉलो इस लिए नहीं करते है क्योंकि उन्हें डर लगता है की उनके माता-पिता क्या कहेंगे उनके भाई-बहन क्या कहेंगे उनके हस्बैंड या वाइफ क्या कहेंगी उनके बच्चे क्या कहेंगे या फिर रिस्तेदार क्या कहेंगे। आप सोचिये क्या आपके अंदर ये डर है।

थॉमस एल्वा एडिसन की तो बचपन में ही आलोचना करके उन्हें मंद बुद्धि घोषित कर दिया था और उन्हें स्कूल से निकाल दिया था। एलन मस्क को तो आज भी लोग पागल कहते है क्योंकि वो एक इंसान को मंगल ग्रह पे बसाने की बात करते है।

अमिताभ बच्चन जब अपना पहला इंटरव्यू देने के लिए गए थे तो उन्हें लम्बा और उनके आवाज का मज़ाक उड़ाया गया और खा गया तुम जैसा व्यक्ति कभी एक्टर नहीं बन सकता। यदि आपके भी अंदर ये डर है तो उस डर को आज ही निकालिये क्योंकि इन सभी के अंदर ये डर होता तो आज भी ये महान नहीं होते।

इसलिए ये गोल्डन वर्ड हमेशा याद रखना [ कुछ तो लोग कहेंगे लोगो का काम है कहना।

2. किसी के प्यार के खो जाने का डर।

Fear of Losing Someone. ये डर दीखता नहीं है लेकिन सबके अंदर होता है। हर व्यक्ति सोचता है की यदि मेरा पति या पत्नी मुझे छोड़कर चला गया तो मेरा क्या होगा, यदि मेरा बॉयफ्रेंड या फिर मेरी गर्लफ्रेंड छोड़कर चली गयी तो मेरा क्या होगा, मेरे बच्चे मुझे छोड़ कर चले गए तो मेरा क्या होगा हर इंसान यही सोचता है की किसी के छोड़ के जाने के कारण उसका जीवन बर्बाद हो जायेगा।

कई बच्चे तो बहुत ही कम उम्र में प्यार और मोहब्बत में पड़ जाते है और फिर जीवन में कोई भी बड़ा फैसला नहीं ले पाते है क्योंकि वो डरते है की उस फैसले के कारण सामने वाला इंसान कहि उसे छोड़ कर ना चला जाये। किसी भी इंसान के अंदर ये ये डर किसी भी रूप में नहीं होना चाहिए।

इस बात को आप एक Positive Example से समझिये, विराट कोहली सिर्फ 17 साल के थे जब एक रात को 3 बजे के करीब अपने पिता को अंतिम सांसे लेते हुए देखा अगले दिन उनका एक बहुत ही इम्पोर्टेन्ट मैच था।

उन्होंने पहले वो मैच खेला उसके बाद अपने पिता का अंतिम संस्कार किया क्योंकि विराट कोहली को पता था की उनके पिता का सपना क्या है उन्होंने इस डर को ख़त्म किया और अपने पिता का और अपना सपना पूरा किया।

इसलिए ये गोल्डन वर्ड हमेशा याद रखना [ ज़िंदगी में कुछ पाने के लिए हमेशा कुछ खोना पड़ता है।

3. गरीबी का डर।

Fear of Poverty. जब भी आप किसी इंसान को नया धंधा खोलने के लिए कहेंगे, नई स्किल सिखने के लिए कहेंगे या किताबे खरीदने के लिए कहेंगे या कहेंगे की नई टेक्नोलॉजी का प्रयोग करो तो वो पहले अपनी गरीबी के बारे में बताएंगे। और उसके बाद कहेंगे यदि मैं इसमें फेल हो गया तो मेरा क्या होगा।

लेकिन सोच कर देखिये की यदि यही डर धीरू भाई अम्बानी के अंदर होता तो वो कभी भी सफल नहीं हो पाते। उनका परिवार सात लोगो का था आर्थिक परिस्थि ठीक ना होनी के कारण वो यमन चले गए और वहां जाकर तीन सौ रूपये की नौकरी करने लगे लेकिन आज रिलायंस का नाम पूरी दुनिया जानती है।

इसलिए आप डरिये मत की आप गरीब हो आप सोचिये की उस गरीबी से आप बहार कैसे निकला जाये इसलिए ये गोल्डन वर्ड हमेशा याद रखना [ इंसान गरीब पैदा नहीं होता वो अपनी सोच के कारण गरीब होता है ]

4. वृद्धावस्था या मरने का डर।

Fear of Old Age or Dying. कई लोगो को आप 30 से 35 साल की उम्र में ये कहते हुए सुना होगा की अब तो हमारी उम्र हो गयी है अब हमशे क्या होगा।

यदि नेल्सन मंडेला ऐसा सोच रखते सो सोचिये दक्षिण अफ़्रीका का भविष्य क्या होता। जब नेल्सन मंडेला 46 साल के उम्र के थे तो उन्हें उम्र कैद की सजा हो गयी 27 साल वो जेल में रहे लेकिन 74 साल की उम्र में वो जेल से बहार निकले और दक्षिण अफ़्रीका के पहले प्रेसिडेंट बने उन्होंने दक्षिण अफ़्रीका के इतिहास को बदल डाला यदि वो भी ऐसी सोच रखते तो कभी भी सफल नहीं हो पाते।

5. बीमारी का डर।

Fear of illness. कई लोग जन्म से ही दिव्यांग होते है और कई लोग परिस्थितियों के कारण बाद में दिव्यांग बन जाये है, कई लोग डरते है की हमे कोई बड़ी बीमारी ना हो जाये और इसी बात का आधार बना कर कई लोग अपना धंधा चला रहे है और धंधा चलाते-चलाते वो अपना Policies बेचते है, दवाईया बेचते है और आपको बीमारी के नाम से डराते है।

मुझे मरने से डर नहीं लगता और ना ही मुझे मरने की जल्दी है लेकिन मरने से पहले बहुत कुछ अच्छा करना चाहता हूँ ये कहना था महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिन्स का वो बचपन में बिलकुल ठीक थे लेकिन जब 18 साल के हुए तो उन्हें दैनिक कार्यो को करने में दिक्कत होनी लगी।

एक दिन वो बेहोशी के कारण गिर पड़े और जब उठे तो उनके आधे शरीर ने काम करना बंद कर दिया। डॉक्टर ने कहा की ये अब ज्यादा समय तक जीवित नहीं रह सकते। धीरे-धीरे कर के उनका पूरा शरीर काम करना बंद कर दिया लेकिन उनके पास दिमाग था जो हमेशा चलता रहा और यही वो महान वैज्ञानिक है जो की ब्लैक होल theory को पूरी दुनिया के सामने लाये।

आप आज ही बैठिये और ढूढ़िये की इन पांचो डरो में से कौन सा डर आपके अंदर है

1. आलोचना का डर। (Fear of Criticism)
2. किसी को खोने का डर। (Fear of Losing Someone)
3. गरीबी का डर। (Fear of Poverty)
4. वृद्धावस्था या मरने का डर। (Fear of Old Age or Dying)
5. बीमारी का डर। (Fear of illness)

उन्हें अपने ज़िंदगी से दूर कीजिये और हर हिंदुस्तानी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि हर कोई इन डरो से बच पाए।


Read Also :-

Share With Your Friends