3 Habits Of Rich People In Hindi – अमीर लोगो की No.1 आदत।

3 Habits Of Rich People In Hindi

Good Habits Of Rich People In Hindi Habits Of Richest Person In The World Habits Of Successful College Students In Hindi अमीर लोगो की No.1 आदत जो वो रोज़ करते है। Here, You Can Read Latest Collection Short Motivational Speech In Hindi For Students Life Lessons Motivational Quotes Success Story And Tips

अमीर लोगो की No.1 आदत जो वो रोज़ करते है।

अमीर लोगो की No.1 आदत – एक सबसे बड़ा सीक्रेट है जो हमें हमारे गोल्स तक पंहुचा सकता है। हमें Financially Success Achieve करवा सकता है, एक Millionaire बना सकता है, एक ऐसी कौन सी चीज़ है जो हर मिलिनियर को पता होती है।

दोस्तों, आज का यह टॉपिक उसी के ऊपर है और आज हम ये सारी बातें आपको “T Harv Eker” की बुक “Secrets Of Millionaire Mind” से बताएंगे। इससे पहले हम वो सीक्रेट आपको बताये हम ऑथर के जर्नी के बारे में बात करते है की उन्हें ये सीक्रेट कैसे पता चला।

ऑथर कहते है की मेरे में बहुत पोटेंशियल था Success Achieve करने का मैंने हर एक Successful आदमी की तरह बहुत बुक्स पढ़ी थी, ऑडियो बुक्स पढ़ी थी, सेमिनार में भी गया था।

ऑथर बोलते है की मैं सच में बहुत सक्सेसफुल होना चाहता था और मुझे नहीं पता मुझे में ये फीलिंग क्यों थी। सायद मुझे पैसे चाहिए थे या मुझे फ्रीडम चाहिए थी या फिर सायद मैं अपने Parents के नज़रो में एक अच्छा बेटा बनना चाहता था और इसीलिए मैंने बहुत सारे Business स्टार्ट किये थे और वो सब के सब फेल हो गए थे।

मैं बस यही सोचता रहता था की अगर मैं राइट टाइम में बिजनेस कर लू तो मैं पक्का अमीर बन जाऊंगा लेकिन ऐसा नहीं हो रहा था। पता नहीं मेरे अंदर का मिस्टर पोटेंशियल कहा चला गया था।

एक दिन मैं अपने दोस्त के घर में बैठा था, मेरे डैड और मेरे दोस्त के डैड काफी क्लोज फ्रेंड थे और मेरे डैड ने मेरे फ्रेंड के डैड को बताया हुआ था मेरे सारे Unsuccessful Businesses के बारे में तो जैसे ही मेरे फ्रेंड के डैड ने मुझे देखा वो मेरे पास आये और बोले Harv ”तुम जानते हो मैंने भी तुम्हारे तरह स्टार्ट किया था मेरे भी तुम्हारे तरह बहुत सारे बिजनेस फेल हो गए थे”।

ऑथर बोलते है की ये सुनकर मुझे थोड़ा सा अच्छा लगा की चलो कोई तो है मेरी तरह, फिर उन्होंने मुझसे कहा Harv अगर तुम वो नहीं Achieve कर पा रहे हो जो तुम चाहते हो इसका एक ही मतलब है की तुम जरूर कुछ ना कुछ गलत कर रहे हो।

फिर वो दुबारा मुझसे बोले क्या तुम जानते हो Almost सारे अमीर इंसानो में कुछ ना कुछ Similar होता है अगर तुम ये पता कर लो की सब अमीर व्यक्ति किस तरह से सोचते है तो तुम भी अमीर बन सकते हो। ये कहकर वो वहाँ से चले गए।

ऑथर बोलते है की पहले तो मुझे लगा की मुझे सब पता है लेकिन फिर मैंने गहराई से सोचा की अगर मुझे सब पता होता तो मेरे इतने बिज़्नेसेस फेल नहीं होने थे कुछ तो ऐसा है जो मैं नहीं कर रहा जो बाकि अमीर आदमी कर रहे है।

फिर मैंने होल होटेड ली सारे अमीर आदमीओ को स्टडी करना स्टार्ट कर दिया वो क्या करते है, क्या सोचते है etc. और फाइनली मुझे पता चल गया की अमीर आदमी क्या अलग सोचते है एक मिडिल क्लास और गरीब लोगो से और फिर ऑथर ने एक इम्पोर्टेन्ट फार्मूला डिस्कवर किया और सब अमीर लोगो का सीक्रेट बताया और वो था Process Of Manifestation इसे कुछ इस तरह से लिखा जा सकता है

T →F →A = R

यानि हम अगर अपना Thoughts चेंज करते है तो हम अपनी Feeling चेंज कर सकते है और अगर हम अपनी फीलिंग चेंज कर देते है तो हम अपने Actions को चेंज कर सकते है और अगर हम अपने एक्शन्स चेंज कर देते है तो हम अपने रिजल्ट Achieve कर लेंगे।

ऑथर कहते है की ”If You Want To Change The Fruits, You Will First Have To Change The Roots.” ”If You Want To Change The Visible, You Must First Change The Invisible.”

”यानि अगर हमें पेड़ में लगे फल को चेंज करना है तो हमें उस पेड़ के जड़ को चेंज करना पड़ेगा”, ”जो हमें दिख रहा है अगर हमें उसे चेंज करना है तो पहले हमें उसे चेंज करना पड़ेगा जो हमें नहीं दिख रहा है”।

यानि हम अगर अपने थॉट्स को चेंज कर सकते है तो हम अपने रिजल्ट्स को चेंज कर सकते है। अब सोचेंगे की यार अगर थॉट्स रिजल्ट को लीड करते है तो हर इंसान जो अमीर होने के बारे में सोच रहा है वो अमीर ना बन जाता, लेकिन ऑथर बोलते है की हमारे थॉट्स की जड़ बहुत अंदर तक है जो हमें Normally महसूस नहीं होती।

ऑथर बोलते है की क्या आपने बचपन में ऐसे शब्द अपने घरो में सुने है जैसे की – ”पैसे ही सारे बुरे कामो की जड़ है” या ”बुरे वक्त के लिए पैसे बचा के रखो”, ”अमीर आदमी सारे लालची होते है”, ”अमीर आदमी क्रिमनल लोग है”, ”पैसा ख़ुशी नहीं दे सकता”, ”हर आदमी अमीर नहीं बन सकता”, ”ये खरीदने की हमारी औकात नहीं है” या फिर सबसे फेमस ”अपनी औकात से बहार कुछ मत खरीदो”।

ऑथर बोलते है की अगर इनमे से कोई भी सेंटेंस बचपन में बार- बार सुना है तो Unfortunately बचपन में ही उन्नओइली हमारे थॉट्स पैसे के लिए चेंज कर दिए गए है।

ऑथर बोलते है की हमारे थॉट्स तीन तरीके से चेंज हो सकते है।

1. Specific Incidents

पहला तरीका होता है Specific Incidents ऑथर की एक स्टूडेंट्स थी जो उनका सेमिनार अटेंड करने आयी थी ये औरत एक नर्स थी और इनका नाम Josey था। Josey की अच्छी इनकम थी लेकिन हर बार वो बहुत जल्दी वो हर बार अपने पैसो को खर्च कर देती थी।

जब ऑथर ने उनसे उनके लाइफ के बारे में पूछा तो Josey ने बताया की जब वो ग्यारा साल की थी तब वो एक अपने पैरेंट्स और बहन के साथ एक चाइनीस रेस्टोरेंट में डिनर करने गयी थी और उस वक्त उनके डैड और मदर के बिच में हर बार की तरह पैसो की वजह से लड़ाई हो रही थी उनके डैड बार-बार खड़े हो रहे थे, चिल्ला रहे थे और टेबल पर मुक्के मार रहे थे।

Josey कहती है की मुझे आज भी याद है की किस तरीके से मेरे डैड का कलर चेंज होने लग गया था और फिर वो निचे गिरते है। मेरे डैड को हर्ट अटैक आ गया था और वो मेरे सामने ही मर गए।

ऑथर बोलते है की इस Incident के बाद से Josey ने पैसो को दुःख के इमोशन के साथ जोड़ दिया था और हर बार जब भी उन्हें सैलरी मिलती थी तब वह पैसो को जल्दी से ख़त्म कर देती थी क्योकि उन्हें पैसो से छुटकारा पाना होना था।

ऑथर बोलते है की और यही Region है की Josey नर्स भी बन गयी क्योकि कही ना कही उनके Subconscious Mind में ये थॉट था की वो अपने डैड को बचा नहीं सकी थी।

ऑथर ने Josey को पैसो के साथ एक पॉजिटिव इमोशन जोड़ने में मदद करी और आज Josey एक फाइनेंसियल एडवाइजर है और वह और लोगो की पैसो को मैनेज करने में हेल्प करती है।

2. Verbal Programming

सेकंड Region जिसकी वजह से हमरी थॉट्स पूरी तहरा से चेंज हो जाते है वो है Verbal Programming यानि आस पास जो भी हमारे बार-बार बोला जायेगा उससे हमारे थॉट्स चेंज हो जायेंगे।

For Example – एक बार ऑथर का तीन साल का बेटा Jesse दौड़ता हुआ ऑथर के पास आया और बोला डैडी चलो हम वो नयी निंजा टर्टल की मूवीज देख कर आते है जो हमारे पास वाले थिएटर में लगी है ऑथर बोलते है की मैं इतना कंफ्यूज हो गया था की मुझे पता ही नहीं चल रहा था की इतना छोटा बच्चा Geography का मास्टर कैसे बन गया इसे कैसे पता चला की हमारा शहर में थिएटर है और उसमे निंजा टर्टल की मूवी लगी हुयी है।

मैं तो अपने बेटे को कभी भी थिएटर के आस पास भी नहीं ले गया था फिर काफी देर के बाद मुझे पता चला की मेरे बेटे को ये सब कैसे पता चला है जब मैंने एक टीवी कमर्शियल देखा उस टीवी कमर्शियल की टैग लाइन में अपने पास के थिएटर में आप ये मूवीज देख सकते है।

इन शार्ट जितनी ज्यादा बार हमारे आस-पास कोई किसी डायलॉग को बार-बार बोलेगा हम उसे सच में मान लेंगे और हमारे थॉट्स उसके अकॉर्डिंग चेंज हो जायेंगे।

3. Modeling

तीसरा मेथड जिससे हमारे थॉट्स चेंज होते है वो है Modeling, ये Concept कहता है की Human Mind हमेशा अपने आस पास वाली चीज़ो को मॉडल करने की कोशिश करता है यानि कॉपी करने की कोशिश करता है।

हमारी लैंग्वेज हमारे बोलने का तरीका लगभग वैसा ही है जैसे हमारे आस-पास वाले लोगो का है हमरा ड्रेसअप यहाँ तक की पैसो से रिलेटेड इमोशंस भी हमने आस-पास वाले लोगो का कॉपी करके सीखा है।

तो अब मेन सवाल आता है की क्या अब हमारी प्रोगरामिंग हो चुकी है और हम इसे चेंज नहीं कर सकते और क्या हम अपने थॉट्स को चेंज कर के एक अमीर आदमी नहीं बन सकते इस पर ऑथर ने काफी पॉइंट्स दिए है जिससे हम एक अमीर, एक मिडिल क्लास और एक गरीब आदमी के थॉट्स प्रोसेस को समझ सकते है और अमीर बनने के लिए अपने Mind को प्रोगरामिंग कर सकते है।

एक अमीर और गरीब थॉट में सबसे पहला Difference आता है की अमीर आदमी सोचता है की मैं अपनी लाइफ खुद Design करूँगा जब की एक गरीब आदमी सोचता है की जैसा नेचर मुझे देगी हमारे साथ वैसा ही होगा।

ऑथर बोलते है की गरब विचार वाले लोग हमेशा सोचता है की उसकी लाइफ किस्मत के ऊपर डिपेंड और ये प्रूफ किया जा सकता है ये देख कर की सबसे ज्यादा लॉटरी टिकट्स कौन खरीदता है।

आपने ठीक सोचा गरीब विचार वाले लोग ही सबसे ज्यादा लौटरी टिकट्स खरीदेंगे क्योकि वो सोचते है की एक दिन मेरा लकी ड्रा निकलेगा और मैं अमीर बन जाऊंगा पर ये कभी अमीर नहीं बन सकते क्योकि कभी इन्होंने अपने थॉट्स प्रोसेस को चेंज ही नहीं किया है और अगर ये लॉटरी जित भी जाये तो भी दुबारा वही पहुंच जायेंगे जहा से इन्होने स्टार्ट किया था।

For Example – Mike Tyson बचपन में गरीबी में रहे, बचपन में कई बार जेल भी गए और बाद में दुनिया के न. 1 बॉक्सर बने Millions कमाए लेकिन दुबारा सारे पैसे लूज़ कर दिए और Millions के उधार में चले गए और दुबारा उन्हें जेल जाना पड़ा ये इसीलिए है क्योकि वो अपना थॉट प्रोसेस नहीं चेंज किया था।

वही पर अगर हम Donald Trump की बात करे तो उन्होंने Real State में मिलियन डॉलर कमाए फिर सारे के सारे बिज़्नेसेस डूबने के वजह से वो करोड़ो के उधार में चले गए लेकिन फिर से उन्होंने और ज्यादा सक्सेसफुल बिज़नेस डेवलॅप किया।

नेक्स्ट पॉइंट में ऑथर कहते है एक अमीर और एक गरीब थॉट प्रोसेस में जो एक सबसे बड़ा Difference होता है वो है Rich People Thing Big and Poor People Thing Small.

ऑथर बोलते है की मेरे बहुत सारे रिटेल फिटनेस स्टोर्स है इससे पहले मैं ये बिज़नेस स्टार्ट भी करता मैंने पहले से सोचा हुआ था की मैं कम से कम सौ ऐसे स्टोर्स खोलूंगा और हज़ारो लोगो को सर्व करूंगा जब की उनके कम्पटीटर जो की Almost उन्ही के बराबर स्किल्स थी उन्होंने सोचा था की वो एक सक्सेसफुल स्टोर खोलेंगे और जानते है कुछ टाइम बाद क्या हुआ Exactly ऐसा ही हुआ जो ऑथर और उनकी कम्पटीटर ने सोचा था।

ऑथर अमीर बन गए जब की उनके कम्पटीटर सिर्फ एक सक्सेसफुल स्टोर खोल पाए।

नेक्स्ट पॉइंट में ऑथर कहते है की एक Rich Thought वाला इंसान दूसरे रिच और सक्सेसफुल लोगो को Appreciate करता है जब की पुअर थॉट वाला इंसान सक्सेसफुल लोगो से चिढ़ता है।

ऑथर कहते है की जब वह Poor थे और उनके बिज़नेसस फेल हो रहे थे तब वो एक खटारा गाड़ी चलाते थे और कभी भी उन्हें ड्राइविंग करते हुए प्रॉब्लम नहीं हुयी लेकिन जब वो सक्सेसफुल हो गये और उन्होंने एक नई Black Jaguar Car ली तो जब भी वो गाड़ी चलाते थे तो कई बार लोग उन्हें पास ही नहीं देते, कई लोग उनसे ओवरटेक करते समय मिडिल फिंगर दिखाते।

एक बार उन्होंने अपनी नयी गाड़ी की रूफ टॉप खोली थी जिस पर पीछे से दो तीन लड़के एक कार में आ रहे थे और उन्होंने अपनी Used Cock की बोतल उनकी गाड़ी में फेक दी और पास लेते हुए कहा यू रिच बास्टर्ड।

इस पर ऑथर कहते है की पता नहीं क्यों हम रिच लोगो से Jealousy क्यों करते है वो कहते है की मैं अमीर और गरीब दोनों स्टेट में रहा हु लेकिन मुझे पता है गरीब से अमीर या अमीर से गरीब बनने माइंड थॉट का गेम है।

पैसा ना लोगो को अच्छा बनता है ना बुरा हम जैसे है वैसे ही रहते है इसीलिए हम दुसरो के सक्सेस को Appreciate करते है और उनसे उनकी स्किल्स को सिखने की कोशिश करते है तो हम जल्दी सक्सेसफुल हो जायेंगे।

नेक्स्ट पॉइंट में ऑथर कहते है की अमीर लोग सक्सेसफुल और पॉजिटिव लोगो के साथ रहना पसंद करते है लेकिन गरीब थॉट वाले इंसान Unsuccessful और नेगेटिव लोगो के साथ रहना पसंद करते है।

ऑथर कहते है की नेगेटिव थॉट्स हम में नेगेटिव फीलिंग लाएंगे जिसकी वजह से हम वैसे ही एक्शन लेंगे या फिर कोई भी एक्शन नहीं लेंगे एक पैरालिसिस वाले इंसान की तरह बन जायेंगे इसीलिए अपने थॉट्स को चेंज करने के लिए अपनी कम्पनी को चेंज करना बहुत इम्पोर्टेन्ट है।

ऑथर बोलते है की अगर हम चाहते है की हमारा थॉट Process बदले जो की अकेला सिंगल Region है अमीर बनने का तो लाइब्रेरी जाओ या ऑडियो बुक सुनो कुछ भी करो लेकिन अमीर लोगो के थॉट्स को बार-बार सुनो और उनकी स्टोरी से खुद को Inspire करो उनकी Strategies सीखो, और सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट है Unsuccessful इंसान को कॉपी करने के बजाये सक्सेसफुल लोगो के माइंड सेट को कॉपी करो।

तो दोस्तों आज हमने देखा की

1. हमें अमीर बनने के लिए Process Of Manifestation को समझना पड़ेगा जो कहता है हमारे थॉट्स से हमारी फीलिंग चेंज होती है फीलिंग से हम एक्शन लेते है और एक्शन से हमें रिजल्ट मिलता है तो इन शार्ट थॉट प्रोवेंस ही एक सिंगल रीजन है जो अमीरो को अमीर बनाता है।

2. फिर हमने देखा था की हमरी थॉट प्रोसेस तीन तरीको से चेंज होता है

सबसे पहले था Specific Incident यानि बचपन में जो हमारे साथ कुछ स्पेसिफिक इंसिडेंट हुए थे उससे हमारे थॉट्स मनी के रैगोर्डिंग चेंज हो सकते है और हो सकता है की हमने पैसो के साथ नेगेटिव इमोशन जोड़ दिए हो।

दूसरा था Verbal Programming यानि जो बार-बार हमारे सामने बोला जायेगा हम उसी को सच मानने लगेंगे इसीलिए हमें अपने Environment को कण्ट्रोल कर के रखना पड़ेगा और

तीसरी चीज़ जो हमारे थॉट्स चेंज करती है वो है मॉडलिंग यानि हम अपने आस पास वाले लोगो को कॉपी करते है इसीलिए हमें उन्ही के साथ ज्यादा वक्त गुजारना चाहिए जिनके जैसा हम बनना चाहते है।

3. इसके बाद हमने मिलिनियर माइंड के चार Thought Process देखे थे।

जिसमे सबसे पहला पॉइंट कहता है की एक अमीर थॉट वाला इंसान सोचता है की मैं अपनी लाइफ खुद डिज़ाइन करूँगा लेकिन गरीब थॉट वाला इंसान सोचता है जो नेचर मुझे देगी मैं उसे एक्सेप्ट कर लूंगा।

अमीर थॉट वाला इंसान हमेशा बड़ा से बड़ा सोचने की कोशिश करता है लेकिन गरीब थॉट वाला इंसान छोटा सोचता है और वो बोलते है यार भाई प्रैक्टिकल होना पड़ता है।

एक अमीर थॉट वाला इंसान दूसरे सुसस्फुल लोगो को Appreciate करता है और उनसे सिखने की कोशिश करता है लेकिन गरीब थॉट वाला इंसान Successful लोगो से चिढ़ता है और उनसे कुछ नहीं सीखता।

अमीर थॉट वाला इंसान कोशिश करता है सक्सेसफुल और पॉजिटिव लोगो के साथ वो ज्यादा से ज्यादा वक्त गुजारे लेकिन गरीब थॉट वाला इंसान ऐसी कोई कोशिश नहीं करता और अगर उसके साथ नेगेटिव लोग है तो वह उन्ही लोगो के साथ रहना पसंद करेगा।

दोस्तों इस बुक में और भी काफी इंटरेस्टिंग टिप्स दिए गए है अगर आप ये पूरी बुक पढ़ना चाहते है तो आप इसे ले सकते है।


Read Also :-

Share With Your Friends