जीवन में सफल कैसे बने – Motivational Story In Hindi

जीवन में सफल ऐसे बने

Jivan Me Safal Kaise Bane Powerful Motivational Story In Hindi For Success In Life For Students Here, You Can Read Latest Collection Short Motivational Speech In Hindi For Students Life Lessons Motivational Quotes Success Story And Tips

जीवन में सफल ऐसे बने - Powerful Motivational Story In hindi

गर्मी की छुट्टियों में दादा जी के पास घूमने आया बालक उछलते-कूदते दादा जी के पास पहुँचा और बड़े गर्व से बोला की दादा जी जब मैं बड़ा हो जाऊंगा तब मैं एक सफल आदमी बनूँगा क्या आप सफल होने के कुछ उपाय बता सकते है।

दादा जी हां में सर हिला दिया और बिना कुछ कहे लड़के का हाथ पकड़ा और उसे करीब की पौधशाला ले गए वहाँ जाकर दादा जी ने दो छोटे-छोटे पौधे ख़रीदे और घर वापिस आ गए वापस आकर उन्होंने एक पौधा घर के बहार लगा दिया और दूसरा पौधा गमले में लगाकर घर के अंदर रख दिया।

अब आपको क्या लगता है की इन दोनों पौधों में से भविष्य में कौन सा पौधा अधिक सफल होगा। दादा जी ने लड़के से पूछा लड़का कुछ समय तक सोचते रहा और फिर बोला घर के अंदर वाला पौधा ज्यादा सफल होगा क्योकि वो हर एक खतरे से सुरक्षित है जब की बाहर वाले पौधे को तेज़ धुप, आंधी-पानी और जानवरो से भी खतरा है।

दादा जी बोले चलो देखते है आगे क्या होता है और वह अखबार उठाकर पढ़ने लगे। दादा जी दोनों पौधों पर ज्यादा ध्यान देते रहे और समय बीतता गया।

3-4 साल बाद जब एक बार फिर वह लड़का अपने माता-पिता के साथ गांव घूमने आया तब अपने दादा जी को देखा तो देखते ही बोला दादा जी पिछली बार मैंने आपसे सफल होने के कुछ उपाय मांगे थे पर आपने तो कुछ भी नहीं बताया था पर इस बार आपको कुछ बताना ही होगा।

दादा जी मुस्कुराये और लड़के को उस जगह ले गए जहा उन्होंने गमले में पौधा लगाया था अब वह पौधा एक पेड़ में बदल चूका था लड़का बोला देखा दादा जी मैंने कहा था ना की ये वाला पौधा ज्यादा सफल होगा

दादा जी ने बोला कीअरे पहले बाहर वाले पौधे का हाल तो देखलो और ये कहते हुए दादा जी लड़के को बाहर ले गए बाहर एक विशाल पेड़ गर्व से खड़ा था उसकी सखाये दूर तक फैली हुयी थी और उसके छाँव में खड़े राहगीर आराम से बाते कर रहे थे।

अब दादा जो ने पूछा बताओ कौन सा पौधा ज्यादा सफल हुआ, लड़का कुछ सरमाते हुए बोला बाहर वाला। लेकिन ये कैसे संभव है बाहर तो उसे ना जाने कितने खतरो का सामना करना पड़ा होगा, दादा जी मुस्कुराये और बोले हां बाहर वाले पौधे को बहुत सी चीज़ो से सामना करना पड़ा लेकिन समस्या का सामान करने से अपने फायदे भी तो है

बाहर वाले पौधे के पास आजादी थी की वह अपनी जड़े जितनी चाहे उतनी फैला ले अपनी सखाओ से आसमान को छू ले और तुम जिस आधी तूफान से इस पेड़ के लिए मुसीबत समझते थे उसी आधी तूफान ने ही इस पेड़ की जड़ो को इतना मजबूत बना दिया है की आज एक छोटा सा आधी तूफान इस पेड़ का कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता।

बेटे अब जो मैं तुम्हे बताने वाला हूँ उसे अगर तुमने अपने अंदर बैठा लिया तो तुम जिंदगी में जो कुछ भी करोगे उसमे सफल हो जाओगे उन्होंने बोला की अगर तुमने जीवन भर सिर्फ अच्छी विकल्पों को ही चुनते रहोगे तो तुम कभी भी उतने सफल नहीं हो पाओगे जितनी तुम्हारी छमता है लेकिन अगर तुम तमाम खतरों के बावजूद इस दुनिया का सामना करने के लिए तैयार हो तो तुम्हारे लिए कोई भी लक्ष्य हासिल करना असंभव नहीं है।

लड़के ने लम्बी सांस ली और उस पेड़ की तरफ देखने लगा वह दादा जी की बातो को समझ चूका था आज उसे सफलता का एक बहुत बड़ा सबक मिल चूका था की जीवन में हम जिन रुकावटों को हम जितना बड़ा शत्रु समझते है वही हमें मजबूत और जीवन में बहुत ज्यादा सफल बनाती है।


Read Also :-

Share With Your Friends