Power Of Subconscious Mind In Hindi – अवचेतन मन की शक्ति।

अवचेतन मन की शक्ति

The Power Of Subconscious Mind In Hindi Pdf Avchetan Man Ki Shakti Motivational Speech In Hindi Summary Book Review Here, You Can Read Latest Collection Short Motivational Speech In Hindi For Students Life Lessons Motivational Quotes Success Story And Tips

Power Of Subconscious Mind In Hindi - अवचेतन मन की शक्ति।

Power Of Subconscious Mind In Hindi – क्या आपने कभी ध्यान दिया है की आप किसी व्यक्ति को याद ही करते हैं और वो व्यक्ति अचानक से आपके सामने आकर खड़ा हो जाता है या फिर उसका कॉल आ जाता है और आप सोचते हैं की यार अभी-अभी मैं आप ही को याद कर रहा था या फिर कभी-कभी आप सोचते हैं कि कहीं मैं गिर ना जाऊं, गिर ना जाऊं और आप अचानक से गिर जाते हैं।

यह सब चीज होती है अवचेतन मन की शक्ति (Power Of Subconscious Mind)के कारण अवचेतन मन की शक्ति इतनी पावरफुल है कि वो आपकी पूरी जिंदगी बदल सकती है चाहे आपके रिश्ते खराब चल रहे हो, चाहे आप की हेल्थ खराब चल रही हो या फिर आप पैसे कमा नहीं पा रहे हो इन सभी चीजों में आपकी अवचेतन मन की शक्ति आपकी बहुत ही ज्यादा मदद करती है।

अवचेतन मन की शक्ति को समझने से पहले आपको सिद्धांतों के बारे में समझना होगा कि सिद्धांत क्या होते हैं?

यदि मैं इसी वक्त आप से कहूं कि आपको साइकिल चलाना है तो आप 1 सेकंड भी नहीं लेंगे और आप साइकिल चलाने के लिए राजी हो जाएंगे लेकिन अभी मैं आपको कहु कि आपको हेलीकॉप्टर चलाना है तो आप उसके लिए मना कर देंगे ऐसा क्यों क्योंकि साइकिल चलाने का जो सिद्धांत है वह आपको आते हैं वह आपको पता है आपने उसे चलाया है लेकिन हेलीकॉप्टर चलाने का सिद्धांत आपको नहीं पता है इसलिए आप उसे नहीं चला पाएंगे।

कई बार लोग झूठी बातों पर विश्वास कर लेते हैं और उन्हें ही सही सिद्धांत माल लेते हैं और उन्ही सिद्धांतों पर अपना जीवन जीते रहते हैं और फिर परेशान रहते हैं। इसलिए आपको अपने जीवन में समझना चाहिए सही सिद्धांतों को, की सही सिद्धांत क्या है क्योंकि तभी आप अपने जीवन को पूरी तरह से बदल पाएंगे।

सिद्धांत क्या है इस बात को ध्यान से समझिए ?

अगर आप हाइड्रोजन के दो परमाणु और ऑक्सीजन के एक परमाणु को मिलाएंगे तो परिणाम हमेशा पानी ही होगा अब चाहे आप इंडिया में रहे पाकिस्तान में रहे ना फिर अमेरिका में रहे सिद्धार्थ कभी भी बदलेगा नहीं। इसी प्रकार से हमारे जीवन में भी बहुत सारे सिद्धांत लागू होते हैं जिनकी वजह से हमारा जीवन चलता है लेकिन गलत सिद्धांत का प्रयोग करके हम गलत रिजल्ट प्राप्त करते हैं

सबसे पहले समझिए हमारा दिमाग दो भागों में बांटा है

1. चेतन मन (Conscious Mind)
2. अवचेतन मन (Subconscious Mind)

1. चेतन मन का मतलब होता है अभी आप इस आर्टिकल को पढ़ रहे हैं फील कर रहे हैं महसूस कर रहे हैं सीख रहे हैं यह सारी की सारी क्रिया आपके चेतन मन के द्वारा हो रही है।

2. अवचेतन मन का मतलब होता है ऐसी बातें जो आपके दिमाग में बैठ गई है जिसके बारे में आपको फिर से सोचने की जरूरत नहीं है उसे ही कहते है अवचेतन मन।

यदि मैं इसे एग्जांपल से समझाने की कोशिश करूं यदि आपको हेलीकॉप्टर चलाने नहीं आता है तो यदि अभी आप हेलीकॉप्टर सीखेंगे तो वह अपने चेतन मन से सीखेंगे मतलब जागृत मन से सीखेंगे।

लेकिन यदि मैं अभी आपको साईकिल चलाने के लिए कहूं जो कि आपको पहले से ही आती है तो आप अपने चेतन मन का इस्तेमाल नहीं करेंगे फिर आप करेंगे अवचेतन मन का इस्तेमाल जिसमे सारी की सारी इनफार्मेशन की साइकिल कैसे चलाई जाती है वो पहले से ही फीड है आपको सोचने और समझने की इतनी ज्यादा जरुरत नहीं पड़ेगी।

तो आपके दिमाग का सिद्धांत क्या कहता है आपके दिमाग का सिद्धांत कहता है की जैसा आप सोचेंगे वैसा ही आपके साथ होगा यदि आप सही सोचेंगे अच्छा सोचेंगे तो आपके साथ अच्छा ही होगा और यदि आप गलत सोचेंगे नेगेटिव सोचेंगे तो आपके साथ वैसा ही होगा।

अब यही आपको समझना चाहिए की यदि आप अच्छी चीज़े बोयेंगे तो आपको अच्छे ही फल मिलेंगे और यदि आप बुरी चीज़े बोयेंगे तो आपको बुरे ही फल मिलेंगे लेकिन यदि आप सोच रहे है की आप कुछ नहीं बोयेंगे तो भी ऐसा नहीं है लोग आकर आपके अंदर कोई ना कोई थॉट प्लांट कर देंगे और उसका फल भी आपको जरूर मिलेगा।

अब यही काम करता है Cause And Effect का सिद्धांत।

हमेशा याद रखना की आपका विचार आपका कारण है मतलब आपका Cause है और आज आप जिस भी परिस्थिति में है वो आपका वो आपका परिणाम है मतलब Effect है।

यदि आपको अपनी बाहरी स्थितियो को बदलना है तो आपको अपने कारणों को बदलना ही होगा क्योंकि आप जब तक अपने कारणों को नहीं बदलेंगे आपकी बाहरी स्थितिया वैसी की वैसी ही रहेंगी।

यदि आपके रिश्ते ठीक नहीं चल रहे है और आप उन रिस्तो को दोष लगा रहे है और सिर्फ ये कहते रह रहे है की मेरे रिश्ते ठीक नहीं है ठीक नहीं है मुझे उनको बदलना है तो इस प्रकार से आपके रिश्ते कभी नहीं बदलेंगे आपको उनके खराब होने का कारण ढूढ़ना पड़ेगा की वो खराब क्यों हो रहे है उस कारण को बदलना होगा तभी आपको सही परिणाम मिलेगा।

यदि आपको हेल्थ ठीक नहीं है और आप जंक फ़ूड खा रहे है बहुत ही उल्टा-सीधा खा रहे है और सोच रहे है की मैं ठीक क्यों नहीं हो रहा हु तो आप ठीक कभी नहीं हो पाएंगे जब तक की आप कारण को बदलने की कोशिश नहीं करेंगे आप कारण ढूढ़िये की आप मोठे क्यों हो रहे है आपने देखा की आप जंक फ़ूड खा रहे है वो कारण है उस कारण को बदल दीजिये आपका परिणाम अपने आप बदल जायेगा।

यदि आप अपनी नौकरी से ज्यादा पैसे नहीं कमा पा रहे है तो उस नौकरी को दोष मत दीजिये आप देखिये की आप उस नौकरी में है क्यों आपके अंदर ऐसी कौन सी स्किल्स नहीं है जिसके कारण आप वही पर फसे हुए है आप अपने कारण को बदलिए आपका परिणाम अपने आप बदल जायेगा।

अब इन सभी चीज़ो में आपका अवचेतन मन आपकी मदद कैसे करेगा।

आप जो भी चीज़ अपने चेतन मन को कहते है आपका चेतन मन वही चीज़ अपने अवचेतन मन को कहता है और समझाने की कोशिश करता है और यदि एक बार आपका अवचेतन मन उस बात को मान लेता है तो आपकी पूरा बॉडी आपका पूरा शरीर आप खुद उस चीज़ के लिए उस प्रकार से काम करने लगते है।

आपका चेतन मन आपके बहुत बड़े जहाज का कप्तान है और आपका अवचेतन मन उसके अंदर बैठा हुआ इंजीनियर है कप्तान जैसा भी आर्डर देगा इंजीनियर को वो बात माननी ही पड़ेगी क्योंकि इंजीनियर बहार नहीं देख सकता बहार देख सकता है आपका कप्तान मतलब आपका चेतन मन।

एक बहुत बड़ा जहाज हमारे मन की ही तरह चलता है तो यदि आप इसे समझ गए तो चेतन मन और अवचेतन मन कैसे काम करते है आपको समझ में आ जायेगा।

आपका चेतन मन कण्ट्रोल होता है आपके इन्द्रियों से आप अपनी इन्द्रियों से अपने चेतन मन से हो भी चीज़े देते है आपका चेतन मन वही चीज़ आपके अवचेतन मन में जाकर रख देता है।

आपका अवचेतन मन किसी भी प्रकार के मज़ाक को नहीं समझता है आप जैसा कहते है वो वैसा ही करता है कई बार अपने देखा होगा की आप मज़ाक में कहते है की कही मैं गिर ना जाऊ या कही मुझे चोट ना लग जाये और वाकई में आप गिर जाते है या आपको चोट लग जाती है।

ऐसा क्यों हुआ क्योंकि आपने इस प्रकार की बात सोचकर अपने मन को एक आर्डर दे दिया अब कई बार जो लोग इन बातो को जानते है वो इस चीज़ का गलत इस्तेमाल भी करते है।

आपके ऊपर वो लोग जान बुझ कर आपके मन में नेगेटिव ख्यालो को भरते है ताकि आपका अवचेतन मन उसी प्रकार से सोचे और आप अपनी जीवन में कुछ नहीं कर पाए।

इसीलिए आपको हमेशा ही इस प्रकार के लोगो से अपने आप को दूर रखना चाहिए और इस प्रकार के किसी भी भावनाओ को किसी भी फीलिंग को अपने अंदर नहीं आने देना चाहिए और इसलिए हर व्यक्ति आपको मोटिवेटेड रहने के लिए पॉजिटिव रहने के लिए कहता है।

क्योंकि आपके अवचेतन मन में एक बार अगर नेगेटिविटी चली गयी फिर मुश्किल हो जाता है।

आपके अवचेतन में ऐसी कौन- कौन सी बाटे चली गयी है जो इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको लगता है की वो गलत सिद्धांत के ऊपर आधारित है और जो बिलकुल भी सही नहीं है जिसके कारण आपके जीवन में बहुत सारी दिक्क़ते आ रही है।

आशा करता हु की अवचेतन मन की शक्ति के बारे में आपको पूरी जानकारी मिली होगी यदि आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे और कमेंट कर के बताये।

।। धन्यवाद।।


Read Also :-

Share With Your Friends